संदेश

बॉडी को डिटॉक्स कैसे करें? How to detox the body?

चित्र
  शरीर  में जमा गंदगी को बाहर कैसे निकाले? How to remove the dirt accumulated in the body?             How to detox the body? सेब : सेब में फाइबर, विटामिन सी, और पेक्टिन होता है। पेक्टिन एक प्रकार का फाइबर है जो पाचन तंत्र को साफ करने में मदद करता है। सेब को कच्चा या उबला हुआ खाया जा सकता है। सेब में फाइबर और पानी भरपूर मात्रा में होते हैं जो आंतों को हाइड्रेस रखकर शरीर में जमा गंदगी को बाहर निकालने में सहायक है। इसी के साथ  यह गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल एक्टिविटी रेट को भी इक्रेंज करता है जिससे पेट की गंदगी आसानी से पास हो जाती है। चुकंदर : यह भी शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालकर खून को बढ़ाने का काम करता है। इसमें बिटालिन्स नामक फाइटोन्यूट्रिएंट पाया जाता है, जो बॉडी डिटॉक्सिफिकेशन का कार्य करता है। इसे लिवर भी साफ रहता है। नाशपाती : नाशपाती में भी बहुत मात्रा में फाइबर और पानी होता है जो पेट और आंत के विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने का कार्य करते है। इससे मल मुलायम हो जाता है तो आसानी से बाहर निकल जाता है। केला :   केला में पोटेशियम, विटामिन बी6, और फाइबर होता है। पोटेशियम

क्या आप भी सुबह खाली पेट नहीं खाते हैं यह? तो आज से ही शुरू करें। जीरा बीमारी रहेगी कोसों दूर

चित्र
  क्या  आप भी सुबह खाली पेट   नहीं   खाते हैं यह? तो आज से ही शुरू करें।  जीरा   बीमारी रहेगी कोसों दूर * जीरे के पानी से बीमारी रहेगी कोसों दूर* जीरा एक औषधीय गुणों से भरपूर मसाला है। यह पाचन, वजन घटाने, ब्लड प्रेशर, और श्वसन स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है। जीरे का पानी पीने के कई फायदे हैं, जिनमें शामिल हैं: डाइजेशन में करता है मदद: सुबह खाली पेट जीरा पानी के सेवन से एसिडिटी, अपच और पेट दर्द की समस्या से राहत मिलती है। जीरा पानी से मेटाबोलिज्म बढ़ता है जिससे डाइजेशन बेहतर होता है। जीरे में पाचन एंजाइम होते हैं जो पाचन प्रक्रिया को बेहतर बनाने में मदद करते हैं। यह कब्ज, अपच, और गैस जैसी पाचन समस्याओं से राहत दिलाने में मदद कर सकता है।  जीरे के सेवन से पेट से जुड़ी कई समस्या से राहत मिलती है। वजन होता है कम:   जीरे में थर्मोजेनिक गुण होते हैं जो शरीर के तापमान को बढ़ाने में मदद करते हैं। इससे कैलोरी बर्न करने में मदद मिलती है और वजन घटाने में मदद मिल सकती है। सुबह खाली पेट जीरा पानी का सेवन करने से आपका मेटाबोलिज्म बढ़ता है। साथ ही आपका पाचन भी नियंत्रित रहता है जिससे आपका वज

क्या आप भी एसिडिटी से हैं परेशान? एसिडिटी को करें छूमंतर।

चित्र
एसिडिटी से हैं परेशान? तो घर में मौजूद इन  चीज़ों से पाएं आराम* एसिडिटी से राहत पाने के लिए आप निम्नलिखित उपाय कर सकते हैं: अपनी डाइट में बदलाव करें। एसिडिटी का कारण अक्सर खराब डाइट होती है। इसलिए, एसिडिटी से बचने के लिए, आपको अपनी डाइट में निम्नलिखित बदलाव करने चाहिए: मसालेदार, अम्लीय और तले हुए खाद्य पदार्थों से बचें। इन खाद्य पदार्थों से आपके पेट में एसिड का उत्पादन बढ़ सकता है। फाइबर से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन करें। फाइबर पेट में एसिड को सोखने में मदद करता है। नियमित रूप से भोजन करें। लंबे समय तक भूखे रहने से पेट में एसिड का उत्पादन बढ़ सकता है। पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं। पानी पेट में एसिड को पतला करने में मदद करता है। घरेलू उपचार करें। एसिडिटी से राहत पाने के लिए आप निम्नलिखित घरेलू उपचार भी कर सकते हैं: 1. अदरक - जब भी आपको एसिडिटी महसूस हो मुंह में थोड़ा अदरक चबाएं या फिर अदरक वाला गर्म पानी लें. क्योंकि इसमें पेट की एसिडिटी में आराम पहुंचाने वाले एंटी-इंफ्लेमेटरी तत्व मौजूद होते हैं. 2. ठंडा दूध - कैल्शियम से भरपूर दूध एसिडिटी के दर्द को

क्या होगा सुबह खाली पेट 1 सेब खाने से ? किन गंभीर बीमारियों से मिलेगा छुटकारा,

चित्र
  सुबह खाली पेट 1 सेब खाने से क्या होगा? किन गंभीर बीमारियों से मिलेगा छुटकारा, सुबह खाली पेट सेब खाने से कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं। सेब में फाइबर, विटामिन, खनिज, और एंटीऑक्सिडेंट होते हैं जो शरीर के लिए आवश्यक होते हैं। यहाँ सुबह खाली पेट सेब खाने के कुछ प्रमुख फायदे दिए गए हैं: कब्ज से राहत: कई पोषक तत्वों से भरपूर सेब को खाली पेट खाने से पेट से जुड़ी परेशानी कम हो सकती हैं. दरअसल, सेब में मौजूद फाइबर पाचन क्रिया को बेहतर बनाने में मदद करता है. ऐसे में यदि रोजाना खाली पेट 1 सेब खाया जाए तो कब्ज और अपच की समस्या से राहत मिल सकती है. मोटापा कम होगा: नियमित सुबह खाली पेट 1 सेब खाने से शरीर के बढ़ते वजन को कम किया जा सकता है. बता दें कि, सेब फाइबर का अच्छा स्रोत होता है, जो पेट लंबे समय तक भरा-भरा महसूस कराता है. इसके चलते आप ओवरईटिंग करने से बच जाते हैं. यही वजह है कि वजन घटाने में मदद मिल सकती है. पाचन स्वास्थ्य में सुधार करता है: सेब में फाइबर, विटामिन, और खनिज होते हैं जो पाचन तंत्र के लिए आवश्यक होते हैं। यह कब्ज, अपच, और अन्य पाचन समस्याओं को रोकने में मदद कर सकता है। कोशिका क्ष

डायरिया: डायरिया क्या है कैसे होता है? इसके क्या लक्षण है इसे कैसे बचा जा सकता है?, डायरिया के लिए कुछ घरेलू नुस्खे

चित्र
डायरिया: लक्षण, बचाव और उपचार डायरिया क्या है ये कैसे होता है इसके क्या लक्षण है इसे कैसे बचा जा सकता है? डायरिया एक ऐसी स्थिति है जिसमें मल पतला और पानीदार हो जाता है. डायरिया  में आपका पेट बहुत अधिक और लिक्विड स्टेट में होता है। यह एक सामान्य स्वास्थ्य समस्या है जिसे वायरस, बैक्टीरिया, या परजीवी के संपर्क से उत्पन्न किया जा सकता है। यह एक आम समस्या है जो हर किसी को कभी न कभी होती है. डायरिया एक सामान्य स्वास्थ्य समस्या है जिसमें पेट में दर्द और कठिनाई होती है, और मल त्वरित और द्रवमय हो जाता है। यह सामान्यतः किसी वायरस, बैक्टीरिया या परजीवी के संपर्क के कारण होता है। डायरिया में आपको लगातार पेट में दर्द हो सकता है, ज्यादा पानी वाला मल हो सकता है, भूख कम हो सकती है, और थकान महसूस हो सकती है। इनके अलावा, उल्टी और बुखार भी हो सकते हैं। डायरिया के कई कारण हो सकते हैं, जिनमें शामिल हैं: क्या आप भी आई फ्लू से परेशान हैं? तो जानिए उसकी पहचान उपचार और निवारण कैसे करें👇 https://www.dhanwanti44.com/2023/07/blog-post_29.html वायरल संक्रमण, जैसे रोटावायरस, नोरोवायरस, और अमीबा बैक्टीरियल